'; } else { echo "Sorry! You are Blocked from seeing the Ads"; } ?>

Mortgage Loan Kya Hota Hai? | Mortgage Loan कितने प्रकार के होते हैं?

अपने दोस्तों के साथ शेयर करें

Mortgage Loan Kya Hota Hai – मॉर्गेज लोन कैसे ले (mortgage loan Kaise Le)?. Mortgage Meaning in Hindi (मॉर्गेज मीनिंग इन हिंदी) With Example, Mortgage Property Loan Rate of Interest in SBI, Documents, EMI Calculator: दोस्तों कई बार परिस्थितियां ऐसी हो जाती हैं कि हमारी सारी सेविंग खत्म हो जाती हैं, ऐसे मैं हमें अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से भी आर्थिक सहायता प्राप्त नहीं होती।

जब हमारे पास पैसे की कमी होती है तो हम लोन लेने के बारे में सोचते हैं। मगर पर्सनल लोन मिलना इतना भी आसान काम नहीं होता। साथ ही साथ लोन लेने के लिए हमको गारंटर की भी आवश्यकता होती है।

मगर अक्सर देखा जाता है, यदि हम अपनी कुछ प्रॉपर्टी को गिरवी रखकर बैंक से लोन ले तो बैंक से लोन जल्दी ही अप्रूव हो जाता है। इसलिए अधिकतर लोग इमरजेंसी के वक्त अपनी प्रॉपर्टी को बैंक में गिरवी रखकर लोन लेने के विकल्प के बारे में सोचते हैं।

क्योंकि प्रॉपर्टी के बदले में आसानी से और जल्दी लोन प्राप्त हो जाती है। प्रॉपर्टी के बदले में दी जाने वाली लोन को सुरक्षित लोन कहा जाता है, और सुरक्षित लोन देने में बैंक ज्यादा संकोच नहीं करते। इसलिए सुरक्षित लोन के स्वीकृत होने के चांस ज्यादा होते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम आपको इसी विषय से संबंधित जानकारी प्रदान करेंगे। आज का मुख्य बिंदु मॉर्गेज लोन होगा। आइए जानते हैं, मॉर्गेज लोन क्या होती है? मॉर्गेज लोन कितने प्रकार के होते हैं। मॉर्गेज लोन के लाभ क्या हैं, इत्यादि के बारे में।

Mortgage Loan Kya Hota Hai - मॉर्गेज लोन कैसे ले (mortgage loan Kaise Le)?. Mortgage Meaning in Hindi (मॉर्गेज मीनिंग इन हिंदी) With Example, Mortgage Property Loan Rate of Interest in SBI, Documents, EMI Calculator

Mortgage Full Meaning in Hindi (with example)

Mortgage को हिंदी भाषा में “बंधक” कहा जाता है। मोरगेज लोन एक ऐसी लोन होती है जिसको किसी प्रॉपर्टी को गिरवी रखने पर दी जाती है। आमतौर पर जमीन, मकान, दुकान इत्यादि प्रॉपर्टी को गिरवी रखने पर जो लोन ली जाती हैं, वो लोन मोरगेज लोन ही होती हैं।

मॉर्गेज लोन क्या होता है – (Mortgage Loan Kya Hai)

मोरगेज लोन संपत्ति पर ली जाने वाली लोन होती है। जब भी आप कोई लोन लेते हैं तो इसके लिए आपको कोलेटरल की आवश्यकता तो पड़ती ही होगी। ऐसे में आप अपने खेत या फिर प्रॉपर्टी के कागजात बैंक को देते होंगे।

यदि आपके पास प्रॉपर्टी के कागजात नहीं है, तो इस स्थिति में आपका लोन स्वीकार भी किया जा सकता है। आसान भाषा में कहें तो प्रॉपर्टी के गिरवी रखने पर दी जाने वाली लोन को मोरगेज लोन कहा जाता है (mortgage loan meaning in hindi)। आपको अपनी प्रॉपर्टी के डाक्यूमेंट्स बैंक में जमा कराने होते हैं।

इसके बदले में आपको एक निश्चित समय अवधि के लिए लोन प्रदान करता है। यदि आप इस समय अवधि के दौरान बैंक की कुल राशि और प्याज राशि को लौटाने में असमर्थ रहते हैं, तो आपका आप की प्रॉपर्टी को कानूनी रूप से जब्त करने का अधिकार बैंक होता है।

उदहारण: आइए मोरगेज लोन को एक उदाहरण के तौर पर समझते हैं। मान लीजिए आपको ₹500000 के लोन की आवश्यकता है। इसके लिए आप बैंक में जाते हैं। बैंक आपसे लगभग ₹700000 की प्रॉपर्टी के कागजात मांगता है। (अक्सर देखा जाता है बैंक आपकी प्रॉपर्टी का 80 से लेकर 85% ही लोन प्रदान करता है।)

यदि आप अपनी प्रॉपर्टी के कागजात बैंक में जमा कराते हैं तो बैंक की तरफ से आपको लोन मुहैया कराया जाता है। आपको यह लोन एक निश्चित समय अवधि में किस्त दर किश्त वापस करना होता है।

यदि किसी कारणवश आप इस लोन को भरने में असमर्थ होते हैं। तो इस स्थिति में बैंक कानूनी रूप से कार्यवाही कर कर आप की प्रॉपर्टी की नीलामी कर कर अपने पैसों की वसूली कर सकता है।

इसे भी पढ़े SBI Yono App Se Personal Loan Kaise Le?

मॉर्गेज लोन कितने प्रकार के होते हैं – (Types of Mortgage Loan in Hindi)

दोस्तों मोरगेज लोन के भी कई प्रकार होते हैं। जिनमें से मुख्य रूप से दैनिक जीवन में तीन प्रकार की मोरगेज लोन के उदाहरण हमें देखने को मिलते हैं।

  • Mortgage registry loan
  • Mortgage by conditional sale
  • Usufructuary mortgage

Mortgage Registry Loan

आपने होम लोन के बारे में तो सुना ही होगा। दरअसल होम लोन को बैंक की मदद से लिया जाता है। होम लोन के अंतर्गत दिए जाने वाले पैसे से हम कोई घर खरीदते हैं। इस घर का सारा मालिकाना हक तो हमारा ही होता है। मगर बैंक को हमें प्रति माह मूल राशि के साथ-साथ ब्याज भी देना पड़ता है।

इस प्रकार की लोन को ही मोर्गेस रजिस्ट्री लोन कहा जाता है। साधारण भाषा में इसे सिंपल मोरगेज कहा जाता है। दरअसल शुरुआत में यह मॉर्गेज लॉन ही होती है।

मगर रजिस्ट्री करने के पश्चात इसे मोरगेज रजिस्ट्री लोन कहा जाता है। “Mortgage Loan Kya Hota Hai – मॉर्गेज लोन कैसे ले (mortgage loan Kaise Le)?. Mortgage Meaning in Hindi (मॉर्गेज मीनिंग इन हिंदी) With Example, Mortgage Property Loan Rate of Interest in SBI, Documents, EMI Calculator”

Mortgage by Conditional Sale

यह लोन का वह प्रकार है जिसमें लोन धारक लोन के चुकता नहीं होने के कारण बैंक को ट्रांसफर कर सकता है। मगर यह पूरी तरह से सेल नहीं होती है। इसकी कुछ कंडीशनस होती हैं।

जिनके आधार पर लोगों को बैंक के लिए बेचा जाता है। जब ग्राहक पूरी लोन का भुगतान कर देता है तो इस स्थिति में उसे ग्राहक के पास दोबारा दे दिया जाता है। इसमें ओनरशिप बैंक के पास ट्रांसफर नहीं होती। क्योंकि इस लोन में बहुत सारी ऐसी कंडीशनस होती हैं। इसलिए इसे Mortgage by conditional sale कहा जाता है।

Usufructuary Mortgage

भारत देश में बहुत ही कम ली जाने वाली कौन होती है। इसमें ग्राहक को ज्यादा फायदा नहीं होता। इस प्रकार के लोन में प्रॉपर्टी के सारे हुकूक बैंक को दे दिए जाते हैं। जब तक बैंक की लोन वापस नहीं हो जाती, तब तक बैंक इस प्रॉपर्टी के यूज करने के लिए भी आप से किराया वसूल सकता है।

इन्हीं कारणों की वजह से भारत में यह लोन कम ली जाती है। क्योंकि इसमें सभी प्रकार के अधिकार बैंक को मिल जाते हैं। Usufructuary mortgage लोन को वापस करने के पश्चात प्रॉपर्टी की ओनरशिप ट्रांसफर कर दी जाती है।

इसे भी पढ़े Referral Code Meaning in Hindi | Referral Code Kya Hota Hai

मॉर्गेज लोन के लाभ क्या हैं – Mortgage Loan Ke Kya Benefits Hai

अन्य लोन के मुकाबले में मॉर्गेज लोन लेना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। मोरगेज लोन लेने में निम्नलिखित फायदे होते हैं।

  • मोरगेज लोन एक सिक्योर्ड लोन है। इसमें आपको अन्य लोन के मुकाबले में अधिक लोन राशि मिल जाती है। वेतन भोगी कर्मचारी को एक करोड रुपए तक का मोरगेज लोन दे दिया जाता है। बिजनेसमैन को यह राशि 3 करोड़ तक लोन के आधार पर दी जाती है।
  • Mortgage Loan (मोरगेज लोन) की लोन प्रक्रिया आसान होती है। और इसमें आपको कम कागजी कार्यवाही से गुजरना पड़ता है।
  • मोरगेज लोन मैं आपको अधिक कागजों की प्रक्रिया में नहीं उलझना पड़ता।
  • लोन को चुकाने के लिए आपको एक लचीले समयावधि प्रदान की जाती है। जिसमें आप आसानी से लोन को वापस कर सकते हैं।
  • प्रकार के लोन लेने के लिए गारंटर की आवश्यकता नहीं होती। यदि आप निश्चित समय अवधि में इस लोन को पूरा भर देते हैं, तो इसका आपका प्रभाव आपके सिबिल स्कोर पर भी पड़ता है। जिससे आपको भविष्य में बैंक से अच्छे ऑफर मिलने की उम्मीद बढ़ जाती है।

“Mortgage Loan Kya Hota Hai – मॉर्गेज लोन कैसे ले (mortgage loan Kaise Le)?. Mortgage Meaning in Hindi (मॉर्गेज मीनिंग इन हिंदी) With Example, Mortgage Property Loan Rate of Interest in SBI, Documents, EMI Calculator”

मॉर्गेज लोन के नुकसान क्या हैं – Mortgage Loan Ke Kya Nuksaan Hain

कहते हैं हर सिक्के के 2 पहलू होते हैं एक सिक्के में दो पहलुओं का मतलब नुकसान और फायदा और नुकसान से है। कई बार हम देखते हैं कि एक चीज का हमें बहुत ज्यादा फायदा हो रहा है, वहीं दूसरी और इसमें नुकसान होने के भी ज्यादा आसार दिखाई दे रहे हैं। मोरगेज लोन भी इसी प्रकार का एक सिक्का है।

जिसमें आपको फायदा भी उठाना पड़ सकता है और नुकसान भी। मोरगेज लोन लेने के आपको कई प्रकार के नुकसान उठाने पड़ सकते हैं।

मॉर्गेज लोन आपको प्रॉपर्टी के आधार पर दी जाती है। सबसे पहले इसमें आपके व्यवसाय और नौकरी पर मिलने वाले मासिक वेतन को देखा जाता है। यदि किसी कारण आपका व्यवसाय बंद हो जाता है, या फिर आपकी नौकरी छूट जाती है। तो ऐसी स्थिति में आपको लोन भरने में काफी दिक्कतें आ सकती हैं।

यदि आप लोन नहीं भरते हैं तो ऐसी स्थिति में बैंक आपकी प्रॉपर्टी को कानूनी रूप से जब्त भी कर सकते हैं। जिसे आप भविष्य में अपनी प्रॉपर्टी से भी हाथ धो सकते हैं। इसलिए ही आपको लोन लेते समय कम से कम लोन लेनी चाहिए।

साथ ही साथ ध्यान रखें किस्त जितने ज्यादा हो सके उतनी रखें। ताकि आपको कम ब्याज का भुगतान करना पड़े। इस प्रकार से यदि आप लोन लेते हैं तो आपको भविष्य में आने वाले नुकसान से राहत मिल सकती है।

इसे भी पढ़े Mahila Loan 30000 Scheme 2021 | Mahila Samridhi Yojana

Mortgage Loan Interest Rate (Mortgage Loan Rate of Interest in SBI)

मोरगेज लोन सामान्य तौर पर इतनी ज्यादा महंगी नहीं होती है। आपको कम से कम ब्याज दरों का भुगतान करना पड़ता है। किसी भी लोन लेने से पहले हमको ब्याज दरों के बारे में पूरी जानकारी लेना बहुत जरूरी होता है। उसी प्रकार मोरगेज लोन के ब्याज दरों के बारे में भी का जान लेना बहुत ज्यादा जरूरी होता है।

क्योंकि यह ब्याज आपकी प्रॉपर्टी पर ही दिया जाता है। यदि आप लोन चुकाने में असमर्थ होते हैं तो इस स्थिति में आप की प्रॉपर्टी पर भी बैंक कब्जा कर सकता है। इसलिए आपको ख़ास ध्यान देने की जरूरत होती है।

आमतौर पर मोरगेज लोन पर 8.15% to 11.80% p.a. ब्याज लिया जाता है। दरअसल यह ब्याज दरें बैंक के अनुसार बदलती रहती हैं और व्यक्ति से व्यक्ति भी इन ब्याज दरों में बदलाव आता रहता है। इसलिए यह बहुत जरूरी होता है कि आपको जिस बैंक से मोरगेज लोन लेनी हो उसकी शाखा में जाकर ब्याज दरों के बारे में पता कर ले।

जिससे आपको भविष्य में किसी प्रकार की असुविधा ना उठानी पड़े। “Mortgage Loan Kya Hota Hai – मॉर्गेज लोन कैसे ले (mortgage loan Kaise Le)?. Mortgage Meaning in Hindi (मॉर्गेज मीनिंग इन हिंदी) With Example, Mortgage Property Loan Rate of Interest in SBI, Documents, EMI Calculator”

Mortgage Loan Documents

लोन लेने के लिए आपको कुछ आवश्यक दस्तावेजों की जरूरत पड़ती है। यदि आपको पहले से ही आवश्यक दस्तावेजों की जानकारी होगी तो आपको बाद में बार-बार फोटोकॉपी वाले की दुकान के चक्कर नहीं काटने पड़ते।

इसलिए आपको आवश्यक दस्तावेजों के बारे में पहले से ही जान लेना चाहिए। यदि आपके पास कोई डाक्यूमेंट्स नहीं है तो उसे पहले ही तैयार करवा लेना चाहिए।

  • पहचान पत्र के रूप में आपको पैन कार्ड की फोटो कॉपी आवेदन पत्र के साथ लगाने होते हैं।
  • इसके अलावा आपको दूसरी आईडी आधार कार्ड ड्राइविंग लाइसेंस या वोटर कार्ड भी लगाना होता है। आप अपने बिजली बिल या फिर रेंट एग्रीमेंट को भी लगा सकते हैं।
  • यदि आप बिजनेस लोन लेना चाहते हैं तो इसके लिए आपको अपने व्यवसाय के जरूरी कागजात भी आवेदन पत्र के साथ अटैच करने होंगे।
  • आपको अपनी पिछले 6 महीने बैंक की अकाउंट स्टेटमेंट भी देनी होती है।

यह कुछ जरूरी कागजात होते हैं जो आपको मोरगेज लोन लेने के लिए आवश्यक होते हैं यदि आप इन कागजों को भरने में असमर्थ होते हैं तो इस स्थिति में आपका लोन कैंसिल किया जा सकता है इसलिए आपको यह सभी दस्तावेज पहले से ही तैयार रखना चाहिए ताकि आपको किसी प्रकार की असुविधा का सामना ना करना पड़े।

इसे भी पढ़े Loan Kaise Le Mobile Se? | मोबाइल से लोन कैसे ले सकते है?

मॉर्गेज लोन के लिए योग्यता (Eligibility for Mortgage Loan)

मोरगेज लोन के लिए आपको कुछ योग्यताएं पूरी करनी होती हैं। यदि आप बैंक के एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया को पूरा करते हैं, तभी इस स्थिति में आपको लोन दिया जाता है।

मोरगेज लोन लेने के लिए आपकी आयु 21 वर्ष से लेकर 65 वर्ष के बीच में होनी चाहिए। आपका प्रतिमाह मासिक वेतन आना चाहिए। या फिर आपका खुद का व्यवसाय होना चाहिए।

आपके पास प्रॉपर्टी के कागजात होने चाहिए। जिनके आधार पर मोरगेज लोन दिया जाता है। यह प्रॉपर्टी आपके या फिर आपके परिवार में से किसी एक सदस्य के नाम होनी चाहिए।

ताकि लोन लेने में आपको किसी प्रकार की तकलीफ ना उठानी पड़े। “Mortgage Loan Kya Hota Hai – मॉर्गेज लोन कैसे ले (mortgage loan Kaise Le)?. Mortgage Meaning in Hindi (मॉर्गेज मीनिंग इन हिंदी) With Example, Mortgage Property Loan Rate of Interest in SBI, Documents, EMI Calculator”

Mortgage Loan EMI Calculator

मोरगेज लोन ईएमआई कैलकुलेटर एक ऐसा टूल है। जिसके माध्यम से आप अपनी लोन पर ले जाने वाले ब्याज दरों की मदद से यह पता कर सकते हैं कि आपको भविष्य में प्रतिमाह कितने रुपए की किश्त भरनी होगी। यह टूल ऑनलाइन प्रत्येक बैंक की ऑफिशियल वेबसाइट पर उपलब्ध होता है।

जिसमें आपको अपनी राशि और उस पर ले जाने वाले ब्याज के साथ साथ लोन अवधि के बारे में जानकारी देनी होती है। इसके पश्चात आपके सामने आपकी प्रति माह की एमआई निकल कर आ जाते हैं। मोरगेज लोन ईएमआई कैलकुलेटर सभी बैंकों की ऑफिशल वेबसाइट पर उपलब्ध होता है।

जिसे आप लोन लेना चाहे उसकी ऑफिशल वेबसाइट पर उपलब्ध होती है। जहां पर आप प्रतिमाह ईएमआई के बारे में जान सकते हैं।

Mortgage Property Loan

मोरगेज प्रॉपर्टी लोन एक ऐसी लोन होती है जिसको आप अपनी प्रॉपर्टी के आधार पर ले सकते हैं। जब तक आप लोन को चुकता नहीं करते। तब तक इसके अधिकार आशिंक रूप से बैंक को मिल जाते हैं।

यदि किसी कारणवश आप इस लोन को भरने में असमर्थ रहते हैं। कोई ऐसी स्थिति में आप की प्रॉपर्टी को बेच कर देंगे। अपनी राशि का भुगतान करा सकता है। “Mortgage Loan Kya Hota Hai – मॉर्गेज लोन कैसे ले (mortgage loan Kaise Le)?. Mortgage Meaning in Hindi (मॉर्गेज मीनिंग इन हिंदी) With Example, Mortgage Property Loan Rate of Interest in SBI, Documents, EMI Calculator”

इसे भी पढ़े Bank Se Personal Loan Lene Ka Tarika | बैंक से Personal Loan कैसे ले?

मॉर्गेज लोन कैसे ले – Mortgage Loan Kaise Le? (मॉर्गेज लोन के लिए आवेदन कैसे करें?)

Mortgage Loan (मॉर्गेज लोन) को ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों प्रकार से लिया जा सकता है। बेहतर होता है कि आप अपने नजदीकी बैंक शाखा में जाकर मोरगेज लोन लेने के लिए आवेदन करें। क्योंकि ऑफलाइन आवेदन करने में आपको बैंक की नियम और शर्तों को समझने में आसानी होती है।

यदि आप ऑनलाइन लोन प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप नहीं चले गए तरीके से मोरगेज लोन के लिए ऑनलाइन आवेदन करें।

  • सबसे पहले आपको ऑनलाइन लोन लेने के लिए सबसे पहले आपको बैंक का चुनाव करना होगा। जिस भी बैंक से आप लोन लेना चाहते हैं, उसकी ऑफिशल वेबसाइट पर जाएं।
  • ऑफिशियल वेबसाइट पर आपको विभिन्न प्रकार के विकल्प दिखाई देंगे। जिनमें से आपको प्रॉपर्टी लोन पर क्लिक करना है। अब आपको प्रॉपर्टी लोन के लिए अप्लाई करने के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको अपनी सारी जानकारी इस फॉर्म में दर्ज करनी होंगी। साथ ही साथ आपको अपने आवश्यक डाक्यूमेंट्स को भी अपलोड करना होगा।
  • सब जानकारी और डाक्यूमेंट्स अपलोड करने के बाद आप अपनी एप्लीकेशन को सबमिट कर दें। अब इसके पश्चात बैंक की तरफ से आपको कॉल किया जाएगा और कुछ जानकारी मांगी जाएंगी। यदि आपके द्वारा दी गई जानकारी सही पाई जाती हैं और आपका सिबिल स्कोर अच्छा है तो आपका लोन स्वीकृत कर लिया जाएगा।
  • लोन राशि सीधे ही आपके बैंक खाते में डाल दी जाएगी।

इस प्रकार से आप घर बैठे कि मोरगेज लोन लेने के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

Conclusion (Mortgage Loan Kya Hota Hai?)

प्रॉपर्टी पर लोन लेने के बारे में हम अक्सर सुनते हैं। मगर इसके टेक्निकल टर्म्स से हम वाकिफ नहीं होते। आज के इस आर्टिकल में हमने प्रॉपर्टी पर ली जाने वाली लोन के बारे में जानकारी प्राप्त की और मुख्य रूप से जाना कि मॉर्गेज लोन क्या होता है – “Mortgage Loan Kya Hota Hai – मॉर्गेज लोन कैसे ले (mortgage loan Kaise Le)?. Mortgage Meaning in Hindi (मॉर्गेज मीनिंग इन हिंदी) With Example, Mortgage Property Loan Rate of Interest in SBI, Documents, EMI Calculator” इत्यादि के बारे में।

आर्टिकल में आपको विस्तारपूर्वक मोरगेज लोन के बारे में जानकारी दी गई है। यदि फिर भी आपको मोरगेज लोन से संबंधित किसी प्रकार का सवाल हो तो आप उसे कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हैं। जल्दी ही उसका जवाब दे दिया जाएगा। ऐसे ही अन्य महत्वपूर्ण लोन योजनाओं के बारे में सुनने के लिए जानने के लिए आप हमारे वेबसाइट को विजिट कर सकते हैं। जहां पर आपको बहुत सारी लोन स्कीम के बारे में जानकारी दी गई है।

FAQ’s:-

मॉर्गेज लोन क्या होता है?

प्रॉपर्टी के गिरवी रख कर जो जो लोन ली जाती हैं। उन्हें मोरगेज लोन कहा जाता है। मोरगेज लोन को सामान्य भाषा में बंधक लोन भी कहा जाता है।

मॉर्गेज मीनिंग इन हिंदी?

मोरगेज एक इंग्लिश का शब्द है। जिसका हिंदी में अर्थ होता है बंधक। मोरगेज शब्द का इस्तेमाल लोन क्षेत्र में किया जाता है। जो लोन प्रॉपर्टी को गिरवी रख कर ली जाती हैं, उन्हें मोरगेज लोन कहा जाता है।

मॉर्गेज लोन कैसे मिलता है?

मोरगेज लोन को आप अपने नजदीकी बैंक शाखा में जाकर प्राप्त कर सकते हैं। यह ऑनलाइन भी मिल जाती है। यदि आपका सिबिल स्कोर अच्छा है और आप लोन के लिए सभी एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया को पूरा करते हैं, तो आप ऑनलाइन आवेदन कर कर भी मोरगेज लोन को प्राप्त कर सकते हैं।

मॉर्गेज कितने प्रकार के होते हैं?

वैसे तो मोरगेज लोन 6 प्रकार के हो सकते हैं। मगर आम तौर पर भारत में तीन प्रकार के लोन ही ग्राहकों के द्वारा लिए जाते हैं। मुख्य रूप से भारत में ले जाने वाले मोरगेज लोन
Mortgage registry loan
Mortgage by conditional sale
Usufructuary mortgage

रजिस्टर्ड मॉर्गेज क्या होता है?

जैसा कि हमने पहले भी बताया मॉर्गेज लोन के विभिन्न प्रकार होते हैं। रजिस्टर्ड मॉर्गेज भी मोरगेज लोन का एक प्रकार होता है। इसके अंतर्गत बैंक को लोन देने के बदले में प्रॉपर्टी का मालिकाना हक ट्रांसफर किया जाता है। यह मालिकाना हक दोबारा ओनर को दे दिया जाता है। जब वह लोन को वापस कर देता है। यदि ऑनर लोन को वापस नहीं करता है तो इस स्थिति में बैंक के पास यह कानूनी रूप से अधिकार होता है, कि वह इस प्रॉपर्टी को नीलाम कर सकें और अपने धन की प्राप्ती कर सकें। रजिस्टर्ड मॉर्गेज को “Dead of Trust” भी कहा जाता है।


अपने दोस्तों के साथ शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!